मुख्यपृष्ठ » बैंकिंग » इंटरनेट बैंकिंग क्या है ? ऑनलाइन बैंकिंग की पूरी जानकारी

इंटरनेट बैंकिंग क्या है ? ऑनलाइन बैंकिंग की पूरी जानकारी

इंटरनेट बैंकिंग क्या है ? ऑनलाइन बैंकिंग की पूरी जानकारी यहाँ हम बताएँगे। हम सभी का बैंक में एक अकाउंट तो रहता ही है और हम सभी लोग वक़्त वक़्त पर पैसे निकालते है और पैसे जमा करते है। परंतु अभी Online दौर चालू है जिसके कारण सभी चीजें Online हो गयी है। और इसी कारण बैंकिंग सिस्टम के कुछ काम भी online ही हो गए है। अधिकांश भारतीय बैंकों ने लगभग सभी बैंकिंग सेवाओं की ऑनलाइन उपलब्धता के साथ ग्राहकों की सुविधा के लिए अपनी इंटरनेट बैंकिंग वेबसाइट और मोबाइल बैंकिंग एप्प लॉन्च की हैं। इंटरनेट बैंकिंग अब सुरक्षित और सुविधाजनक बैंकिंग सेवाओं का एक सामान्य तरीका है। 

ऑनलाइन बैंकिंग इतना सुविधाजनक हो गया है, कि बिना इसके अब बैंकिंग अधूरा सा लगता है। लेकिन ध्यान दें कि इसके फायदे है तो कुछ नुकसान भी है। यहाँ हम ऑनलाइन बैंकिंग क्या है, इसकी क्या लाभ है और सुरक्षा सम्बंधित क्या क्या सावधानियां रखनी होगी इसके बारे में विस्तार से यहाँ जानेंगे। तो चलिए सबसे जानते है कि इंटरनेट बैंकिंग क्या है ?

इंटरनेट-बैंकिंग

इंटरनेट बैंकिंग क्या है ?

इंटरनेट बैंकिंग, जिसे नेट-बैंकिंग या ऑनलाइन बैंकिंग के नाम से भी जाना जाता है, यह एक इलेक्ट्रॉनिक भुगतान प्रणाली है जो बैंक के ग्राहक को इंटरनेट के माध्यम से लेनदेन ऑनलाइन करने में सक्षम बनाती है। यह सेवा लगभग हर बैंकिंग सेवा तक पहुँच प्रदान करती है, जैसे ग्राहकों को फंड ट्रांसफर करना, पैसे जमा करना और ऑनलाइन बिल भुगतान करना।

इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा कोई भी ऐसा व्यक्ति प्राप्त कर सकता है, जिसने बैंक में ऑनलाइन बैंकिंग के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है, जिसके पास एक चालू बैंक खाता है। ऑनलाइन बैंकिंग सुविधाओं के लिए Registration करने के बाद, ग्राहक को बैंकिंग सेवा का लाभ उठाने के लिए हर बार बैंक जाने की जरूरत नहीं है। यह न केवल सुविधाजनक है बल्कि बैंकिंग का एक सुरक्षित तरीका भी है। नेट बैंकिंग पोर्टल से ग्राहक को ID और Password दिया जाता है।

इंटरनेट बैंकिंग के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करें ?

हर खाता धारक को इंटरनेट बैंकिंग का लाभ पाने के लिए अपने संबंधित बैंक में ऑनलाइन बैंकिंग सेवा के लिए Registration करना होगा। जब आप नए खाते के लिए आवेदन करते हैं, तो अधिकांश बैंक नेट-बैंकिंग लॉग-इन किट प्रदान करते हैं। नेट बैंकिंग का उपयोग शुरू करने के लिए आपको हम नीचे कुछ Steps बता रहे है।

  1. सबसे पहले अपने बैंक की वेबसाइट से Application form डाउनलोड करें। वही भरें और प्रिंट निकाल लें। आप सीधे बैंक भी जा सकते हैं और नेट बैंकिंग के लिए आवेदन फॉर्म भर सकते हैं।
  2. इसके बाद Application Form को भरकर बैंक में जमा करें।
  3. फिर Verification के बाद, आपको एक user ID और पासवर्ड प्राप्त होगा जिसका उपयोग करके आप इंटरनेट बैंकिंग में लॉग-इन कर सकते हैं।

इंटरनेट बैंकिंग की विशेषताएँ क्या है ?

  1. Financial के साथ साथ Non-Financial बैंकिंग सेवाए प्रदान करता है।
  2. किसी भी समय बैंक बैलेंस चेक करने की सुविधा मिलती है।
  3. अन्य खातों में बिल भुगतान और फंड ट्रांसफर कर सकते है।
  4. बैंक खाते से जुड़े लोन और बचत पर नज़र रख सकते है।
  5. ग्राहक चेकबुक प्राप्त करने के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  6. बैंक खाते से जुड़े निवेश पर नजर रख सकते है।

इंटरनेट बैंकिंग के लाभ क्या है ?

  1.  24 × 7 उपलब्धता – इंटरनेट बैंकिंग यह सामान्य बैंकिंग के विपरीत होती है क्योंकि इसके लिए आपको ज्यादा time नही लगता है। यह पूरे वर्ष में 24 × 7 उपलब्ध रहती है। यह सेवाएं हमेशा ऑनलाइन उपलब्ध रहती हैं। Users अपने बैंक बैलेंस, और account information की जांच कर सकते हैं और कभी भी तुरंत Money transfer कर सकते हैं।
  1. लेन-देन शुरू करने की सुविधा प्राप्त होती है – फंड ट्रांसफर और बिल भुगतान के समय यह सुविधा प्रदान करने के कारण इंटरनेट बैंकिंग को काफी पसंद किया जाता है। Registered user बैंक का दौरा किए बिना और लंबी लाइन में खड़े होने के बिना लगभग सभी बैंकिंग सेवाओं का उपयोग कर सकते हैं। सभी लेनदेन जैसे कि बिलों का भुगतान करना और खातों में पैसे ट्रांसफर करना user की सुविधा के अनुसार कभी भी आसानी से किया जा सकता है।
  1. लेन-देन को ट्रैक करना – लेन-देन के बाद बैंक द्वारा पावती पर्ची प्रदान की जाती है, जो गलत तरीके से प्राप्त होने की संभावना है।  हालांकि, इंटरनेट बैंकिंग के साथ, user द्वारा शुरू किए गए सभी लेनदेन के history को ट्रैक करना बहुत आसान हो जाता है। ऑनलाइन किए गए लेन-देन और फंड ट्रांसफ़र का भुगतान section ट्रांजेक्शन हिस्ट्री सेक्शन में किया जाता है, जैसे कि भुगतानकर्ता का नाम, बैंक account number, भुगतान की गई Amount, भुगतान की तारीख और समय भी दिखाया जाता है।
  1. त्वरित और सुरक्षित तरीका है – नेट बैंकिंग users account के बीच तुरंत पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं, खासकर यदि दोनों account एक ही बैंक में रखे गए हों। Users की सुविधा के अनुसार NEFT, RTGS या IMPS के माध्यम से फंड ट्रांसफर किया जा सकता है।  कोई भी बिल भुगतान, EMI भुगतान, और लोन भुगतान आसानी से कर सकता है।  इसके अलावा आपका लेनदेन, साथ ही account की information एक पासवर्ड के साथ सुरक्षित रहता हैं।

इंटरनेट बैंकिंग हेतु फंड ट्रांसफर के प्रकार क्या है ?

Internet Banking में तीन प्रकार के फंड ट्रांसफर होते हैं, जिन्हें नेट-बैंकिंग का उपयोग करके बनाया जा सकता है। तो उन्ही फंड ट्रांसफर के प्रकार हम आपको नीचे बता रहे है।

  1. NEFT – नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर NEFT यह एक भुगतान सेवा है जो एक account से दूसरे account पर फंड ट्रांसफर की अनुमति देता है।
  1. RTGS – रियल-टाइम ग्रॉस सेटलमेंट RTGS यह एक ऑर्डर के आधार पर व्यक्तिगत रूप से पैसों का एक निरंतर भुगतान सेवा है। NEFT की तरह, RTGS भी ऑनलाइन 24 ×7 उपलब्ध रहती है।
  1. IMPS – तत्काल भुगतान सेवा IMPS यह एक अन्य भुगतान विधि है जो वास्तविक समय में पैसे ट्रांसफर करती है।IMPS का उपयोग मोबाइल, इंटरनेट के माध्यम से पूरे भारत में बैंकों में तुरंत पैसे ट्रांसफर करने के लिए किया जाता है। इसे पढ़ें – IMPS, NEFT, RTGS क्या है पूरी जानकारी

इंटरनेट बैंकिंग के कार्य क्या है ?

  • कभी भी घर बैठे ऑनलाइन अपने खाते शेष राशि की जाँच कर सकते है।
  • मिनी स्टेटमेंट डाउनलोड कर सकते है।
  • नेट बैंकिंग से अपने खाते से किसी अन्य के खाते में पैसे ट्रांसफर कर सकते है।
  • फ्लाइट, बस, रेल व अन्य टिकट बुक कर सकते है।
  • ऑनलाइन बैंकिंग के द्वारा चेक बुक और एटीएम/डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई कर सकते है।
  • एफडी आरडी खोल सकते है।
  • पीपीएफ अकाउंट ओपन कर सकते है।
  • बीमा प्रीमियम खरीद सकते है।
  • अपना इनकम टैक्स इ-फाइल कर सकते है।
  • ऑनलाइन लोन के लिए अप्लाई कर सकते है।

इंटरनेट बैंकिंग की सुरक्षा का ध्यान रखें

इंटरनेट बैंकिंग के बहुत सारे लाभ है। ये बैंकिंग कार्यों को काफी आसान बनाता है। लेकिन ऑनलाइन बैंकिंग का इस्तेमाल करते समय सुरक्षा का भी ध्यान रखना बहुत महत्वपूर्ण है। नीचे हमने कुछ सुरक्षा सम्बंधित जानकारी दे रहे। इसे ध्यान में जरूर रखें –

  • जिस बैंक की इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते है उस बैंक की ऑफिसियल वेबसाइट को पहचानना। इंटरनेट बैंकिंग के लिए वेबसाइट और ऐप्स दोनों उपलब्ध है। इसलिए आप सिर्फ बैंक की ऑफिसियल वेबसाइट और ऐप्स का इस्तेमाल लॉगिन करने के लिए करें।
  • इंटरनेट पर ऐसे फर्जी मिलते जुलते वेबसाइट भी मिल सकते है जो आपके बैंक की वेबसाइट की तरह दिखाई देते है लेकिन वे फर्जी होते है। ऐसे फर्जी वेबसाइट को पहचानना आपको आना चाहिए।
  • कभी की फोन कॉल के अपने ऑनलाइन बैंकिंग की यूजर आईडी और पासवर्ड को शेयर न करें।
  • फण्ड ट्रांसफर करते समय अकाउंट डिटेल्स को अच्छे से कन्फर्म करें। क्योंकि गलत अकाउंट में पैसे ट्रांसफर हो जाने पर आपको बैंक के चक्कर काटने पड़ सकते है।
  • इंटरनेट बैंकिंग से बिल पेमेंट करते समय उस वेबसाइट की ब्रांड को जरूर जाने। किसी भी अनजान वेबसाइट पर ऑनलाइन पेमेंट ना करें।
  • इंटरनेट बैंकिंग से लिंक अपने मोबाइल नंबर पर आने वाले अननोन कॉल से सावधान रहें। क्योंकि OTP के द्वारा प्रतिदिन धोखाधड़ी किया जा रहा है।

सारांश : हमने आपको इस लेख में इंटरनेट बैंकिंग क्या है ? ऑनलाइन बैंकिंग की पूरी जानकारी बताया है। हम आशा करते है कि आज का यह लेख आपको पसंद आया होगा। यदि आपको यह लेख पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर share करे। अगर ऑनलाइन बैंकिंग से सम्बंधित आपके मन में कोई अन्य सवाल हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में हमसे पूछ सकते है। हम बहुत जल्दी आपको रिप्लाई करेंगे।

इस वेबसाइट पर बैंकिंग से सम्बंधित ऐसे ही महत्वपूर्ण जानकारी शेयर किया जाता है। अगर आप ऐसी ही नई नई जानकारी पाना चाहते है तो गूगल पर myandroidicty.com सर्च करके भी इस वेबसाइट पर विजिट कर सकते है। मिलते है एक नई जानकारी के साथ थैंक यू !

3 thoughts on “इंटरनेट बैंकिंग क्या है ? ऑनलाइन बैंकिंग की पूरी जानकारी”

  1. सर में भी एक ब्लॉगर हूँ और adsense से अर्निंग करता हूँ हालही में मेरे adsense अकाउंट में Manage tax information का नोटिस आया है क्या आप बता सकते हैं आपके adsense अकाउंट में भी यह नोटिस आया है या नहीं या यह केवल youtubers के लिए है

    Reply
    • हां भाई आया है, आप टैक्स इनफार्मेशन सबमिट कर दो। उससे कोई दिक्कत नहीं होगी।

      Reply

अपनी समस्या या सुझाव यहाँ लिखें